ऐ ईश्वर ! इतनी गर्मी में मुकुट कौन पहनता है ? 

ऐ ईश्वर!
क्या तुम अपने घर के जाले नहीं साफ़ करते
हें? और इतनी गर्मी में 
मुकुट कौन पहनता है