Dalit Literature

हस्तकला शिल्प और तकनीक का सहास्तित्व

हस्तकला शिल्प और तकनीक का सहास्तित्व

अर्चना उपाध्याय प्रयागराज से हैं और वस्त्र मंत्रालय,भारत सरकार में बतौर एम्पैनल्ड डिज़ाइनर कार्यरत हैं। साहित्य ,कला ,संस्कृति एवं सेवा के क्षेत्र में कई पुरुस्कारों से सम्मानित हैं अर्चना ने त्रैमासिक ‘आगमन ‘ पत्रिका के सम्पादन के साथ ही देश के विभिन्न पत्र – पत्रिकाओं में निरंतर लेखन के साथ ही साझा काव्य संग्रह ‘भाव-कलश …

हस्तकला शिल्प और तकनीक का सहास्तित्व Read More »

A Dalit Happy by Hsenura

dALIT hAPPY

When I have to writeTo all these publishing housesThey ask me to write on painSuffering, Hunger and TraumaAnd if I differ, they sayThese don’t look like Dalit poetryThey can’t stand to readA Dalit Happy Either it should start with“We suffered in their hands”Or it should end with“Our hunger persisted forever”They saidTheir readers can’t believeThat a …

A Dalit Happy by Hsenura Read More »

वर्तमान परिवेश में दलित साहित्य । प्रो. श्यौराज सिंह बेचैन से बातचीत

श्यौराज सिंह बेचैन

श्यौराज सिंह बेचैन का लेखन हिंदी दलित साहित्यिक परिदृश्य में एक मील का पत्थर है। शोषण, गरीबी, अशिक्षा, जातिवाद और भेदभाव के शिकार दलितों के संघर्ष उनकी कहानियों के केंद्र में हैं। उनके कथा सृजन में उन शोषणकारी ताकतों की रूपरेखा तैयार की गई है जिनके परिणामस्वरूप दलितों को सामाजिक अधिकारों से वंचित किया गया …

वर्तमान परिवेश में दलित साहित्य । प्रो. श्यौराज सिंह बेचैन से बातचीत Read More »