वितानमय । मनीष कुमार यादव

The Goldfinch by Carel Fabritius
The Goldfinch by Carel Fabritius

निष्ठुरताओं से घिरा भयभीत मन 
धैर्य का अभिनय कर रहा है 

अवमुक्त होने के सन्दर्भ में
कुछ स्मृतियाँ कुछ आशंकायें बची हैं

आगंतुक पत्र के साथ
चपरासी
शहर से शहर भागता है

एक दिन ठग लिए गए समय की राख़
हमारी नियोजित इच्छाओं पर 
धूल की तरह
पड़ रही होती है 

बहुत आत्मीय लगते हैं रास्ते 
जटिल दुनिया में आतिथ्य तलाशते
प्रेम-पत्रों की तरह

उस दिन अमलतास से नीचे कोई फूल
नहीं गिरा
पदचिन्ह मिटाकार कोई ज्योत्सना-अभिमानी चल नहीं सकता

मैं एक खोया हुआ यात्री हूँ;

अधिष्ठित सपनों में
अपना घर भूल आया हूँ

मैं जब सो जाता हूँ
तो मुझे अपने सपनों में
असली कहानी मिलती है
और देखता हूँ
आँखों से एक हाथ दूर
पुराना अतीत बैठा है

अजीब घटनाओं में समय रुकने का भ्रम
छिपा है

मन किसी शोकागार में बिलखती चिड़िया है;
सम्प्रषित नहीं हो पाता निष्ठुर अवबोध

कथानकों की दुर्लब्ध भाषा में गहरे डूबा मैं
छिछला अवसाद लिए हुए

समय का प्रवाह अब आगे नहीं बढ़ रहा है
(हालाँकि आत्महत्या अब एक परित्यक्त विचार है)
और समय की प्रतिबद्धता जैसे हताशा का चेहरा है 

प्रतिबद्धताएं कातर मन का दिवास्वप्न हैं
यही वास्तविकता की संरचना का कुल
तोड़फोड़ है!

मनीष कुमार यादव